milap singh

milap singh

Wednesday, 13 December 2017

सर्दी को हराना है

बाहर बर्फ बिछी है हरसू
नन्हे कदमों से सर्दी को हराना है
खतरे बहुत हैं इस मौसम में
फिर भी परीक्षा के लिए जाना है।

सर्दी से नहीं करते हैं हम
सिर्फ बर्फ पर पैर फिसलने से डरते हैं
स्कूल बहुत दूर है घर से
और खाईयों से गुजर कर जाना है।

चुनाब तो करवा लिए पहले
आपने इस मौसम के डर से
नन्हें बच्चों के बारे में भी सोचा होता
बस इसी विषय से अवगत करवाना है।

....... मिलाप सिंह भरमौरी

No comments:

Post a Comment